मसाले बनाने वाली सभी कंपनियों की फैक्ट्रियों का होगा इंस्पेक्शन, FSSAI ने कंपनियों के प्रोडक्ट्स की सैंपलिंग और टेस्टिंग का भी आदेश दिया

सिंगापुर, हांगकांग, अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया में विवादों में आए MDH और एवरेस्ट के मसालों की आंच देश की तमाम मसाला कंपनियों तक पहुंच गई है। भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण इसे लेकर एक्शन मोड में आ गई है, दरअसल! FSSAI अब देश की सभी मसाला कंपनियों की क्वॉलिटी जांच करेगी, अगर मसालों में कोई कमी पाई जाती है तो कंपनियों के खिलाफ एक्शन भी लिया जाएगा, FSSAI ने आदेश दिया है कि देश की सभी मसाला कंपनियों में परीक्षण और निरीक्षण किया जाएगा, इस दौरान हर मसाले का सैंपल लिया जाएगा और उसकी क्वॉलिटी जांच की जाएगी, इस दौरान यह भी जांचा जाएगा कि इन मसालों में एथिलीन ऑक्साइड कितनी मात्रा में है, अगर कोई कमी पाई जाती है तो तुरंत प्रभाव से एक्शन लिया जाएगा।

बता दें सिंगापुर समेत दुनिया के कई देशों में MDH और एवरेस्ट के मसालों की क्वॉलिटी जांच के घेरे में आ गई है। इन मसालों में एथिलीन ऑक्साइड तय मात्रा से ज्यादा पाया गया था। एथिलीन ऑक्साइड एक कीटनाशक पदार्थ है और इसके ज्यादा इस्तेमाल से कैंसर हो सकता है, इसी को लेकर सिंगापुर और हांगकांग ने कुछ मसालों पर बैन भी लगा दिया है, हालांकि, विश्व प्रसिद्ध मसाला ब्रांड MDH ने अपने उत्पाद में पेस्टिसाइड होने का आरोपों को खारिज किया है, कंपनी का कहना है कि ये दावे झूठे और निराधार हैं और इसका कोई ठोस सबूत नहीं है। हमारे प्रोडक्ट्स में एथिलीन ऑक्साइड होने के आरोप गलत है।

वहीं, सिंगापुर और हांगकांग के रेगुलेटरी अफसरों ने कंपनी को ना कोई फोन और मैसेज नहीं किया। ऐसे में कंपनी के आरोप बेबुनियाद और अप्रमाणित है, ल्व्किन विदेशों में एक्शन के बाद FSSAI पर भी भारत में मसालों की क्वॉलिटी जांच को लेकर दबाव बन रहा था, जिसके बाद अब FSSAI देश की सभी मसाला कंपनियों की क्वॉलिटी जांच करेगी ।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top